प्यास बुझानी है तो उड़ जा पंछी शहर की सरहदों से दूर, यहाँ तो तेरे हिस्से का पानी भी प्लास्टिक की बोतलों में बंद है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *