Hindi Status, Royal Status, Urdu Status and Shayri Collection

हमें पसंद नहीं जंग में भी मक्कारी
जिसे निशाने पे रक्खें बता के रखते हैं,.,!!

ज़िंदगी दी हिसाब से उस ने
और ग़म बे-हिसाब लिक्खा है,.,!!

जो सुनना चाहो तो बोल उट्ठेंगे अँधेरे भी
न सुनना चाहो तो दिल की सदा सुनाई न दे,.,!!

कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं
गाते गाते लोग चिल्लाने लगे हैं.,,!!

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया,.,
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सीखने आया करती थी,.,!!

मैं क्यूँ कुछ सोच कर दिल छोटा करूँ…
वो उतनी ही कर सकी वफ़ा जितनी उसकी औकात थी…!!

ना खुशी खरीद पाता हूं और ना गम बेच पाता हूं
फिर भी ना जाने क्यूं हर रोज बाजार जाता हूं,.,!!!

किसी के वास्ते थोड़ा सा मुस्कुराना फिर,
बनेगा दर्द का ये दिल मेरा निशाना फिर,.,!!!

तेरी कुर्बत भी नहीं है मयस्सर…
और देखो , दिन भी बारशो के आ गए ….!!!

आ कर ख़यालों में मेरे, बाकि जहाँ बेखयाल कर जाते हो
हमें भी सिखा दो हुन्नर…..कैसेयह कमाल कर जाते हो,.,!!!
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *